Menu

Snanam Slokams

Dhyanam Slokam 

अच्छ स्वच्छ लसद् दुकूलवसनां पद्मासनाध्यायिनीं
हस्त न्यस्त वराभयाब्ज कलशां राकेन्दु कोटि प्रभाम्।
भास्वद् भूषण गन्ध माल्य रुचिरां चारु प्रसन्नाननां
श्री गङ्गादि समस्त तीर्थ निलयां ध्यायामि कावेरिकाम्॥

Argyam Slokam ( In Sanskrit and Tamil)

1)अगस्त्य कुण्ड संभूते कवेरतनये शूभे । मरुद्वृधे गृहाणार्घ्यं मया सन्दापितं वरम्॥ कावेर्यै नमः इदमर्घ्यम्।

அகஸ்த்ய குண்ட ஸம்பூதே கவேர தநயே சுபே! மருத்வ்ருதே க்ருஹாணார்க்யம் மயா ஸந்தாபிதம் வரம்! காவேர்யை நமஃ இதமர்க்யம்!

2)

Leave a Reply

 Click this button or press Ctrl+G to toggle between multilang and English

Your email address will not be published.

Name *
Email *
Website